ताजा खबरें >- :
बीआरओ ने उत्तराखंड में सामरिक महत्व एवं विकास की दृष्टि से 13707 करोड़ रुपये का प्रस्ताव तैयार किया

बीआरओ ने उत्तराखंड में सामरिक महत्व एवं विकास की दृष्टि से 13707 करोड़ रुपये का प्रस्ताव तैयार किया

सड़क सुरक्षा संगठन (बीआरओ) ने उत्तराखंड में सामरिक महत्व एवं विकास की दृष्टि से 13707 करोड़ रुपये का प्रस्ताव तैयार किया है। इसमें सड़क, हेलीपोर्ट, हवाई पट्टियां व सुरंग निर्माण शामिल हैं। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) ने बीआरओ की कार्ययोजना की सराहना करते हुए कहा कि वह इस संबंध में राज्य एवं केंद्र सरकार से आर्थिक पैकेज के लिए वार्ता करेंगे।

मंगलवार को राज्यपाल राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) ने सीमा सड़क संगठन के बहुआयामी अभियान को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस दौरान बीआरओ ने राज्यपाल के समक्ष एक प्रस्तुतिकरण भी दिया। इसमें बताया गया कि उत्तराखंड में सामरिक महत्व एवं आर्थिक विकास की दृष्टि से 14 नई सड़कें, पांच हेलीपोर्ट, गौचर व नैनीसैनी हवाई पट्टी का विस्तार तथा दो सुरंगें बनाई जानी हैं।

815 किमी लंबी सड़कों की लागत 9250 करोड़, पांच हेलीपोर्ट की लागत 77.50 करोड़, दो हवाई पट्टियों के विस्तारीकरण की लागत 120 करोड़ तथा दो सुरंगों की लागत 4260 करोड़ प्रस्तावित की गई है। राज्यपाल ने कहा कि इस प्रस्तावित कार्ययोजना को मुख्यमंत्री, संबंधित मंत्री व मुख्य सचिव के साथ साझा किया जाएगा।

उन्होंने सचिव राज्यपाल डा रंजीत सिन्हा को निर्देश दिए हैं कि संबंधित सचिवों को भी पत्र प्रेषित कर उनसे निर्धारित तिथि के भीतर सुझाव लिए जाएं। उन्होंने कहा कि वह जल्द ही केंद्रीय मंत्रियों से इस संबंध में वार्ता कर इस परियोजना के लिए आर्थिक सहायता देने का अनुरोध करेंगे।

कार्यक्रम में बताया गया कि बीआरओ का यह अभियान अमृत महोत्सव के साथ बीआरओ के 63वें स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित किया गया है। इस अभियान के अंतर्गत बहुआयामी गतिविधियां आयोजित की जाएंगी। इनमें पंगारचूला चोटी का आरोहण, गंगा में रिवर राफ्टिंग, रुड़की से दिल्ली तक दौड़ व देहरादून-चंडीगढ़-नई दिल्ली तक साइकिल यात्रा निकाली जाएगी।

Related Posts