ताजा खबरें >- :
उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां चरम पर; प्रत्याशी चुनाव प्रचार में जुटे

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां चरम पर; प्रत्याशी चुनाव प्रचार में जुटे

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां चरम पर हैं। नामांकन के बाद प्रत्याशी चुनाव प्रचार में जुटे हैं। हालांकि, मौसम का बदला मिजाज इसमें खलल भी डाल रहा है। गुरुवार को प्रदेश में भारी बारिश और बर्फबारी के कारण चुनाव प्रचार की रफ्तार धीमी पड़ गई। कहीं राष्ट्रीय दलों के बड़े नेताओं को अपना दौरा रद करना पड़ा तो कहीं प्रत्याशी मार्ग बंद होने और कार्यकर्त्ताओं के न जुट पाने के कारण चुनाव प्रचार के लिए नहीं निकल पाए।  बर्फबारी और भारी बारिश की परवाह न करते हुए कई प्रत्याशी पगडंडियां नापकर जनसंपर्क में जुटे रहे। मौसम का मिजाज बदलने के कारण भाजपा को राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का गुरुवार को गढ़वाल में प्रस्तावित जनसंपर्क कार्यक्रम रद करना पड़ा। वहीं, पिथौरागढ़ में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को खराब मौसम के कारण हेलीकाप्टर के बजाय सड़क मार्ग से विभिन्न कार्यक्रमों में जाना पड़ा। मौसम विभाग ने आज यानी शुक्रवार को भी प्रदेश में बारिश-बर्फबारी होने की आशंका जताई है। इससे प्रत्याशियों की चिंता बढ़ गई है।

पौड़ी: श्रीनगर गढ़वाल विधानसभा सीट के अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में भारी बर्फबारी के बीच भी भाजपा प्रत्याशी डा. धन सिंह रावत का चुनाव प्रचार जारी रहा। उन्होंने उफरैंखाल क्षेत्र ने डोर-टू-डोर जन संपर्क किया। चौबट्टाखाल सीट से मैदान में उतरे भाजपा प्रत्याशी सतपाल महाराज बारिश व बर्फबारी के बीच कई गांवों में पहुंचे। कोटद्वार में बारिश के कारण प्रचार की गति धीमी रही। जबकि, लैंसडौन विधानसभा सीट पर भाजपा प्रत्याशी दिलीप रावत ने बर्फबारी के बीच जनसंपर्क किया। कांग्रेस प्रत्याशी अनुकृति गुसाईं भी डोर-टू-डोर प्रचार में जुटी रहीं।

चमोली: बदरीनाथ विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी महेंद्र भट्ट ने दशोली के बमियाला क्षेत्र में बर्फबारी में भी प्रचार किया। जबकि, कांग्रेस के प्रत्याशी राजेंद्र भंडारी ने पोखरी में दिनभर बारिश में प्रचार करते रहे। थराली सीट पर कांग्रेस के प्रत्याशी प्रो. जीतराम भी वांण गांव में बर्फबारी में प्रचार करते दिखे। उनका वाहन भी बर्फ में फंसा रहा, जिसे उन्होंने खुद धक्का मारकर आगे बढ़ाया। कर्णप्रयाग विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी मुकेश नेगी ने क्षेत्र में भ्रमण कर अपने पक्ष में मतदान की अपील की।

उत्तरकाशी: गंगोत्री विधानसभा सीट पर भाजपा के प्रत्याशी सुरेश चौहान ने गाजणा क्षेत्र में बारिश और बर्फबारी के बीच प्रचार किया। जबकि कांग्रेस के प्रत्याशी विजयपाल सजवाण ने भी बर्फबारी और बारिश के बीच संग्राली गांव में डोर टू डोर प्रचार किया। यमुनोत्री सीट पर निर्दल प्रत्याशी संजय डोभाल ने डोर-टू डोर प्रचार किया। आम आदमी पार्टी के नेता कर्नल अजय कोठियाल ने गंगोत्री विधानसभा के भेटियारा, धौंतरी क्षेत्र में बर्फबारी के बीच घर-घर प्रचार किया।

बागेश्वर: हिमपात के कारण कपकोट विधानसभा सबसे अधिक प्रभावित है। घाटी के लगभग 50 गांवों में लगातार हिमपात हो रहा है। यहां भाजपा-कांग्रेस के कार्यकत्र्ता प्रचार करने गए, लेकिन हिमपात के कारण उन्हें लौटना पड़ा। इसके अलावा बागेश्वर विधानसभा क्षेत्र के कौसानी, पालड़ीछीना, लेटी आदि गांवों में भारी हिमपात से प्रत्याशी प्रचार नहीं कर पा रहे।

ऊधमसिंह नगर: जिले की सभी नौ विधानसभा सीटों पर मौसम ने चुनाव प्रचार में खलल डाला। प्रत्याशी व उनकी चुनाव प्रचार टोलियां प्रचार के लिए कार्यालयों से रवाना नहीं हो सकीं। ऐसे में उन्होंने प्रचार वाहन क्षेत्र में रवाना कर प्रत्याशी के पक्ष में मतदान की अपील की।

पिथौरागढ़: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का पिथौरागढ़ में दूरस्थ क्षेत्रों में जनसंपर्क कार्यक्रम प्रस्तावित था, लेकिन मौसम के बदले मिजाज के कारण वे उड़ान नहीं भर पाए। ऐसे में उन्होंने शहरी इलाकों में वाहनों से प्रचार किया। बारिश और बर्फबारी के कारण स्थगित प्रचार कार्यक्रम के चलते प्रत्याशियों के आवासों और कार्यालयों में चुनाव की रणनीति पर चर्चा की गई। धारचूला विधानसभा का तो दो तिहाई क्षेत्र बर्फ से पट चुका है। जिसके चलते प्रचार टोलियां नहीं निकल सकीं।

चंपावत: मैदानी क्षेत्र में बारिश व पर्वतीय क्षेत्र में सीजन की पहली बर्फबारी ने चुनाव प्रचार में खलल डाल दिया है। घर-घर चुनाव प्रचार में जुटी टोलियां एक स्थान पर रुक गई हैं तो प्रत्याशी एक घर से दूसरे घर पहुंचकर प्रचार करने में जुटे हैं। बर्फबारी से वाहनों का प्रचार बंद हो गया है।

देहरादून: देहरादून में दिनभर भारी बारिश के कारण तमाम विधानसभा सीटों पर चुनाव प्रचार की गति थमी रही। मसूरी और चकराता सीट पर बर्फबारी के कारण प्रत्याशी ग्रामीण इलाकों में जनसंपर्क नहीं कर सके। अन्य सीटों पर भी कोई बड़े कार्यक्रम नहीं किए जा सके। भाजपा और कांग्रेस के प्रत्याशियों ने जहां वर्चुअल माध्यम से क्षेत्रवासियों से संवाद किया, साथ ही गली-मोहल्लों में प्रचार वाहन रवाना कर वोट मांगे।

Related Posts