ताजा खबरें >- :
नेताओं से निराश है जनता, अल्प संख्या में पहुंचे वोट देने

नेताओं से निराश है जनता, अल्प संख्या में पहुंचे वोट देने

उत्तराखंड मीडिया:  लोकसभा चुनाव के लिए गुरुवार को हुए मतदान के दौरान चुनाव आयोग की तैयारी और बहुप्रचारित पुख्ता व्यवस्थाओं के दावे के बीच उत्तराखंड ने अपने पांच सांसदों को चुनने में बहुत उत्साह नहीं दिखाया है।कई जगह ऐसी तस्वीर भी दिखी। कई स्थानों पर  से नाराज चल रहे वोटरों को सिस्टम मनाने में सफल नहीं हो पाया, मगर वोटरों ने भी अपने कर्तव्य का निर्वहन नहीं किया। अलबत्ता, कुछ जगह सिस्टम को वोटरों का गुस्सा थामने में कामयाबी जरूर मिल गई।

पौड़ी लोकसभा सीट पर चौबट्टाखाल विस क्षेत्र के धोबीघाट, जोगीमढी, पटेलधार, लाछी गांवों के निवासियों ने सड़क न बनने पर लोस चुनाव में भागीदारी न करने की बात कही थी। इस पर खुद पौड़ी के डीएम धीराज सिंह गर्ब्याल ने पहल करते हुए प्रयास किए। सड़क को लेकर वन भूमि से संबंधित मसले के निस्तारण के निर्देश दिए। इसके बाद ग्रामीण मान गए। इसी सीट पर आंसौ पल्ला (आंसौ बाखल) के लोगों को मनाने में प्रशासन कामयाब नहीं हो पाया। पौड़ी सीट के अंतर्गत ही चमोली जिले के कफोली, बमियाला, गंडिक व पोखनी के ग्रामीणों को मनाने में सिस्टम को सफलता नहीं मिली। नतीजतन, इन गांवों के 1057 वोटरों ने अपने कर्तव्य का निर्वहन नहीं किया।

इस दूरस्थ गांव में दो बूथ बनाए गए, मगर मतदान खत्म होने तक वहां कोई मतदाता नहीं पहुंचा। जिला निर्वाचन अधिकारी रंजना के मुताबिक ग्रामीणों को मनाने प्रशासन की टीम भेजी गई थी, मगर मतदाता माने नहीं। वहीं, नैनीताल, अल्मोड़ा, चंपावत व पिथौरागढ़ जिलों में सात बूथों पर भी ऐसी ही स्थिति की सूचना है।

 

 

Related Posts