ताजा खबरें >- :
ओमिक्रोन एक हल्की बीमारी, पर सावधानी बहुत जरूरी- डॉ. गुलेरिया

ओमिक्रोन एक हल्की बीमारी, पर सावधानी बहुत जरूरी- डॉ. गुलेरिया

देश मेंओमिक्रोन के बढ़ते मामलों के बीच, एम्स के प्रमुख डॉ रणदीप गुलेरिया ने गुरुवार को लोगों से सावधानी बरतने को कहा। उन्होंने कहा कि इस समय उचित मास्किंग, हाथ धोना, भीड़ से बचना और टीकाकरण सहित कोविड ​​उपयुक्त व्यवहार का पालन महत्वपूर्ण है। हालांकि, उन्होंने कहा कि भले ही ओमिक्रॉन वैरिएंट का असर हल्का है लेकिन सभी से सतर्क रहने की जरूरत है। गुलेरिया ने कहा, “घबराएं नहीं, यह एक हल्की बीमारी है, लेकिन सतर्क रहें।

इससे पहले, डॉ गुलेरिया ने बताया था कि ओमिक्रॉन वैरिएंट मुख्य रूप से फेफड़ों के बजाय ऊपरी सांस लेने की जगहों को प्रभावित करता है – और बिना कॉमरेडिटी वाले लोगों को घबराना नहीं चाहिए और अस्पताल जाने से बचना चाहिए। द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए उन्होंने कहा कि प्रभावी होम आइसोलेशन पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए क्योंकि नए वैरिएंट के लिए रिकवरी का समय बहुत तेज है। उन्होंने कहा, “हम यहां जो देख रहे हैं वह बुखार, बहती नाक, गले में खराश और शरीर में बहुत दर्द और सिरदर्द है। यदि इनमें से कोई भी लक्षण बना रहता है, तो उन्हें आगे आना चाहिए और अपना टेस्ट करवाना चाहिए।

पिछले हफ्ते, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा था कि जीनोमिक सर्विलांस के माध्यम से 1,270 ओमिक्रॉन मामलों का पता चला है, जिनमें से 374 पूरी तरह से ठीक हो गए हैं। भारत के कोविड टास्क फोर्स के सदस्य, डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि अस्पताल के बिस्तर उन लोगों के लिए खाली छोड़े जाने चाहिए जो गंभीर बीमारी की चपेट में हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि नए साल की शुरुआत में देश पिछले जोखिम से इस बार वैक्सीन के चलते बेहतर स्थिति में है।

Related Posts