ताजा खबरें >- :
महादेव के दर पहुंचे 1800 कैलाश यात्री;  मानसरोवर और देश की प्रमुख नदियों से लाए गए जल से सोमनाथ महादेव का अभिषेक किया

महादेव के दर पहुंचे 1800 कैलाश यात्री; मानसरोवर और देश की प्रमुख नदियों से लाए गए जल से सोमनाथ महादेव का अभिषेक किया

बेहद कठिन मानी जाने वाली कैलाश मानसरोवर की यात्रा करने वाले यात्रियों का भगवान महादेव के प्रथम ज्योतिर्लिंग सौराष्ट्र (गुजरात) के सोमनाथ मंदिर में स्नेह मिलन कार्यक्रम का आयोजन किया। इसमें देश के विभिन्न प्रांतों के 1800 यात्रियों ने कैलाश मानसरोवर और देश की प्रमुख नदियों से लाए गए जल से सोमनाथ महादेव का अभिषेक किया। भक्तों ने मंदिर की परिक्रमा कर 52 गज का ध्वजारोहण किया।

गुजरात अहमदाबाद के कैलाश यात्री और सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट की ओर से शनिवार को स्नेह मिलन (कैलाश यात्रियों के पहले कुंभ) का आयोजन किया गया। अहमदाबाद के नितिन ओझा, कमलेश पटेल, विपिन पंड्या और महेश भाई ने बताया कि उत्तराखंड के 16 कैलाश यात्री भी इसमें शामिल हुए। भोले के भक्तों ने भजनों पर मंदिर तक दो किमी की शोभायात्रा निकाली।

ध्वज के आगे सात कन्याएं मानसरोवर और देश की प्रमुख नदियों से लाए गए जल के कलश लेकर चल रहीं थीं। 11.30 बजे शोभायात्रा मंदिर पहुंची। पुजारी ने ध्वजा की पूजा-अर्चना कराई। बाद में ध्वजा को मंदिर के ऊपर चढ़ाकर पवित्र जल से सोमनाथ का अभिषेक किया गया। इस दौरान समूचा सोमनाथ हर-हर महादेव के उद्घोष से गूंज उठा।

ध्वज के आगे सात कन्याएं मानसरोवर और देश की प्रमुख नदियों से लाए गए जल के कलश लेकर चल रहीं थीं। 11.30 बजे शोभायात्रा मंदिर पहुंची। पुजारी ने ध्वजा की पूजा-अर्चना कराई। बाद में ध्वजा को मंदिर के ऊपर चढ़ाकर पवित्र जल से सोमनाथ का अभिषेक किया गया। इस दौरान समूचा सोमनाथ हर-हर महादेव के उद्घोष से गूंज उठा।

इसके 70 साल बाद शनिवार को कैलाश यात्रियों ने मानसरोवर और देश की प्रमुख नदियों के जल से सोमनाथ का अभिषेक किया। कैलाश यात्रियों की ओर से शनिवार की रात आठ बजे से एक शाम सोमनाथ के संग कार्यक्रम का आयोजन किया गया। भजन गायिका पद्मश्री अनुराधा पोडवाल और पवन अपना ने सुमधुर स्वर में भगवान शिव-पार्वती के साथ ही कृष्ण-राधा के भजनों से समा बांध दिया।

Related Posts