ताजा खबरें >- :
वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक को सरकार में जिम्मेदारी सौंपे जाने की स्थिति में एक व्यक्ति एक पद के सिद्धांत को अमल में लाया जाएगा

वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक को सरकार में जिम्मेदारी सौंपे जाने की स्थिति में एक व्यक्ति एक पद के सिद्धांत को अमल में लाया जाएगा

उत्तराखंड में फिर से भाजपा की सरकार बनने के मद्देनजर अब प्रदेश भाजपा संगठन में बदलाव की सुगबुगाहट सुनाई देने लगी है। माना जा रहा है कि वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक को सरकार में जिम्मेदारी सौंपे जाने की स्थिति में एक व्यक्ति एक पद के सिद्धांत को अमल में लाया जाएगा। इस दृष्टिकोण से नए प्रदेश अध्यक्ष के नाम को लेकर चर्चा होने लगी है।  पार्टी सूत्रों का कहना है कि इस विषय पर नई सरकार के शपथ ग्रहण के बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा।प्रदेश की भाजपा सरकार में पिछले वर्ष मार्च में हुए पहले नेतृत्व परिवर्तन के साथ ही प्रदेश भाजपा के नेतृत्व में भी बदलाव किया गया था। तब प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी देख रहे पूर्व मंत्री बंशीधर भगत को सरकार में मंत्री बनाया गया।

भगत के स्थान पर त्रिवेंद्र सरकार में कैबिनेट मंत्री एवं शासकीय प्रवक्ता रहे मदन कौशिक को जिम्मेदारी दी गई। प्रदेश अध्यक्ष कौशिक के अध्यक्ष रहते हुए पार्टी ने विधानसभा चुनाव में दो-तिहाई बहुमत हासिल किया है।ऐसे में माना जा रहा है कि भाजपा द्वारा इस बार विधानसभा चुनाव में मिथक तोडऩे के फलस्वरूप पार्टी अब प्रदेश अध्यक्ष कौशिक को सरकार में जिम्मेदारी सौंप सकती है। यदि ऐसा हुआ तो नए प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव तय है। सूत्रों ने बताया कि इस विषय में पार्टी स्तर पर मंथन भी चल रहा है।

राज्य में नई सरकार के शपथ लेने के बाद इस बारे में निर्णय लिया जाएगा। कारण यह कि प्रदेश अध्यक्ष को अगले साल राज्य में होने वाले नगर निकाय चुनाव और फिर वर्ष 2024 के लोकसभा चुनाव के हिसाब से रणनीति तैयार कर उसे धरातल पर उतारना है। इस परिदृश्य के बीच सबकी नजर इस बात पर टिक गई है कि पार्टी का नया प्रदेश अध्यक्ष कौन होगा।भाजपा ने दो-तिहाई बहुमत के साथ विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की, लेकिन मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की हार के कारण फिलहाल नए मुख्यमंत्री को लेकर तस्वीर स्पष्ट नहीं है। इसके बावजूद मंत्रिमंडल में जगह बनाने की विधायकों की कवायद अब विधानसभा अध्यक्ष पद तक पहुंच गई है।

राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि चौथी विधानसभा के अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल को मंत्रिमंडल में स्थान मिलने की स्थिति में भाजपा के वरिष्ठ विधायकों में से किसी एक को यह जिम्मेदारी दी जा सकती है। अगर ऐसा होता है तो नए मंत्रिमंडल में कई नए चेहरे नजर आ सकते हैं। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री पद को लेकर चर्चाएं चलती रहती हैं। मुख्यमंत्री किसे बनना है, यह केंद्रीय नेतृत्व को ही तय करना है। विधानसभा अध्यक्ष और ऋषिकेश विधायक प्रेम चंद अग्रवाल ने कहा कि सबकी सहानुभूति मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के प्रति है। उनका हारना कष्टकारी है। भाजपा एक ऐसी पार्टी है जो व्यक्ति को उसके काम और प्रतिभा के आधार पर जिम्मेदारी देती है। पार्टी का हर कार्यकर्ता पार्टी जो भी जिम्मेदारी देती है, उसका अनुपालन करता है। उन्होंने कहा कि उन्हें चुनाव में लगातार चौथी जीत मिलना केंद्रीय नेतृत्व के आशीर्वाद का परिणाम है। जनता हर बार जीत का अंतर बढ़ा रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विश्व में छाप छोड़ी है। प्रदेश को एक लाख करोड़ का पैकेज विकास के लिए दिया। आल वेदर रोड, ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन, गंगा को स्वच्छ करना आदि काम हो रहे हैं। ये अब रफ्तार पकड़ेंगे। उन्होंने कहा कि चुनाव में विपक्षी प्रत्याशी जो गलत हथकंडे अपना कर चुनाव प्रभावित करने का काम कर रहे थे, जनता ने उन्हें आइना दिखाया है।

Related Posts