ताजा खबरें >- :
घरों में कार्य करने वाली महिलाओं (गृह सहायिका) को प्रदेश सरकार सुरक्षा कवच देने की तैयारी

घरों में कार्य करने वाली महिलाओं (गृह सहायिका) को प्रदेश सरकार सुरक्षा कवच देने की तैयारी

घरों में कार्य करने वाली महिलाओं (गृह सहायिका) को प्रदेश सरकार सुरक्षा कवच देने की तैयारी कर रही है। इस सिलसिले में महाराष्ट्र के एक्ट का अध्ययन कराया जा रहा है। फिर इसके आधार पर राज्य की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए यहां भी गृह सहायिका एक्ट बनाया जाएगा। महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य के मुताबिक प्रस्तावित एक्ट में मानदेय, सुरक्षा समेत अन्य सभी पहलुओं को शामिल किया जाएगा। इसके साथ ही गृह सहायिकाओं के लिए प्रशिक्षण आदि की व्यवस्था कराने पर भी गंभीरता से विचार चल रहा है।

उत्तराखंड में घरों में कार्य करने वाली महिलाओं की संख्या का आकलन तो नहीं हुआ है, लेकिन अनुमान है कि इनकी संख्या 30 से 40 हजार के बीच है। अब सरकार ने इन महिलाओं के जीवन स्तर में सुधार लाने के साथ ही उन्हें सुरक्षा देने के मद्देनजर कदम उठाने की ठानी है। महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य के अनुसार महाराष्ट्र में गृह सहायिकाओं के लिए वहां की सरकार ने एक्ट बनाया है। इसके तहत उनके मानदेय, प्रशिक्षण समेत अन्य कई मामलों में गृह सहायिकाओं को सुरक्षा प्रदान की गई है। इसी तरह का एक्ट उत्तराखंड में भी बनाने पर विचार किया जा रहा है।

कैबिनेट मंत्री आर्य ने बताया कि विभागीय अधिकारियों को महाराष्ट्र के एक्ट का अध्ययन करने के निर्देश दिए गए हैं। फिर जिस भी विभाग के दायरे में गृह सहायिकाएं आएंगी, उसके माध्यम से एक्ट के लिए प्रस्ताव तैयार कराया जाएगा। कोशिश ये है कि जल्द से जल्द यह एक्ट अस्तित्व में आ जाए। उन्होंने कहा कि जहां तक गृह सहायिकाओं की संख्या का आंकड़ा जुटाने की बात है तो यह कार्य आंगनबाड़ी कार्यकर्त्‍ताओं के अलावा किसी अन्य संस्था से भी कराया जा सकता है। इसके अलावा महिला सशक्तीकरण विभाग यह भी प्रयास कर रहा है कि गृह सहायिकाओं को कुकिंग आदि का प्रशिक्षण भी दिलाया जाए।

Related Posts