ताजा खबरें >- :
गढ़वाल मंडल विकास निगम और कुमाऊं मंडल विकास निगम में वर्ष 2001 से तैनात संविदा कर्मी आज तक संविदा कर्मी ही कहलाते; हरीश रावत

गढ़वाल मंडल विकास निगम और कुमाऊं मंडल विकास निगम में वर्ष 2001 से तैनात संविदा कर्मी आज तक संविदा कर्मी ही कहलाते; हरीश रावत

पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस चुनाव प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत ने कहा कि गढ़वाल मंडल विकास निगम और कुमाऊं मंडल विकास निगम में वर्ष 2001 से तैनात संविदा कर्मी आज तक संविदा कर्मी ही कहलाते हैं। इनकी त्रासदी और कितनी आगे बढ़ेगी, यह राज्य के लिए विचारणीय प्रश्न है। यह बातें उन्होंने मंगलवार को फेसबुक पर साझा कीं।
अपनी पोस्ट में उन्होंने कहा कि गढ़वाल मंडल विकास निगम और कुमाऊं मंडल विकास निगम के कर्मी हमारे बच्चे हैं। इनका भविष्य राज्य का भविष्य है। ये हड़ताल पर हैं और मेरी भावनाएं इनके साथ हैं। हरीश रावत ने कहा कि इस त्रासदी का समाधान निकालने को हमने अपने कार्यकाल में एक प्रयास किया भी था, जो न्यायालय में लंबित है। अब आज की सरकार को यह मामला देखना चाहिए। हमें इस हड़ताल के मानवीय पक्ष को भी देखना चाहिए। उन्होंने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से इन कर्मियों को नियमित करने के लिए गंभीरता से विचार करने को कहा है।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने उच्च शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत के बारिश को नियंत्रित करने वाले एप के बयान पर चुटकी ली है। उन्होंने कहा कि इसके लिए राज्य सरकार को डा. धन सिंह रावत का नाम किसी बड़े पुरस्कार के लिए केंद्र सरकार को भेजना चाहिए। यह बात उन्होंने मंगलवार को राजपुर रोड स्थित कांग्रेस मुख्यालय में मीडिया से कही।
गोदियाल ने कहा, यह प्रदेश का दुर्भाग्य ही है कि प्रदेश को ऐसे जनप्रतिनिधि मिले हैं, जो हर पटल पर प्रदेश की किरकिरी कराने पर तुले हैं। उत्तराखंड सरकार के मंत्री अपने कार्यों के लिए कम ऊल-जुलूल बयानों के लिए ज्यादा जाने जा रहे हैं। उच्च शिक्षा मंत्री पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अगर बारिश को नियंत्रित करने वाला कोई एप है तो बहुत अच्छी बात है। इससे कम से कम सूखे से जूझ रहे किसानों को आत्महत्या नहीं करनी पड़ेगी।

Related Posts