ताजा खबरें >- :
पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने उत्तर प्रदेश के साथ परिसंपत्तियों के बटवारे को लेकर धामी सरकार पर हमला बोला

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने उत्तर प्रदेश के साथ परिसंपत्तियों के बटवारे को लेकर धामी सरकार पर हमला बोला

पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत ने उत्तर प्रदेश के साथ परिसंपत्तियों के बटवारे को लेकर धामी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने सरकार पर राज्य की संपत्तियों को लुटवाने का आरोप लगाया।पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बड़े भाई उत्तर प्रदेश के सामने राज्य के हित और संपत्तियों का समर्पण कर दिया है। अलकनंदा होटल के स्थान पर सिंचाई विभाग की बेशकीमती जमीन उत्तर प्रदेश को सौंपना, श्रीबदरीनाथ मंदिर की संपत्तियों को उत्तर प्रदेश को सौंपना खिलवाड़ है। टिहरी बांध परियोजना से मिलने वाली बिजली और अन्य हितों की अनदेखी हुई है। परिवहन निगम के मामले में भी राज्य के हितों से समझौता किया गया है।

हरीश रावत ने कहा कि मुख्यमंत्री धामी उनके अनुज की तरह हैं, लेकिन उन्होंने उत्तराखंड की जनता के साथ न्याय नहीं किया है। उन्होंने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार के दबाव के चलते उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड की भाजपा सरकारों के मध्य गुपचुप ढंग से चुनावी वर्ष में अव्यवहारिक बंटवारा किया गया है। कांग्रेस इससे सहमत नहीं है।पूर्व मंत्री व वरिष्ठ कांग्रेस नेता मातबर सिंह कंडारी ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश की सरकार उत्तराखंड के साथ न्याय नहीं कर रही है। 21 वर्षों से राज्य की अरबों की संपत्ति उत्तर प्रदेश के पास है। सिंचाई विभाग की 10 अरब की संपत्ति पर उत्तरप्रदेश काबिज है। राज्य पुनर्गठन आयोग के नियमानुसार जिस राज्य की सीमा में जो संपत्ति है, वह उसी राज्य की होगी। हरिद्वार जिले में सिंचाई विभाग की भूमि पर उत्तर प्रदेश सरकार का अधिकार उचित नहीं है। हरिद्वार बैराज, बनबसा बैराज, किच्छा बैराज पर उत्तर प्रदेश का अधिकार नहीं होना चाहिए। नानकमत्ता सागर के साथ छह जलाशय ऊधमसिंह नगर जिले में हैं। इन पर उत्तराखंड का नियंत्रण होना चाहिए।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी पर बरती जा रही उदारता को लेकर नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह को निशाने पर लिया है। इंटरनेट मीडिया पर अपनी पोस्ट में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री धामी के कैबिनेट सहयोगी मंत्री हरक सिंह रावत अवैध खनन को लेकर विलाप कर रहे हैं, ऐसे में मुख्यमंत्री का इस्तीफा नहीं मांगना विपक्ष की उदारता है। हरीश रावत ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री खनन प्रेमी तो हैं ही, उन्हें बजरी-बोल्डर लुटवा भी कहना पड़ेगा। वन मंत्री हरक सिंह रावत ने उनके आरोपों की पुष्टि कर दी है। धामी राज में इतना अवैध खनन हुआ है कि नदियां चीख-चीख कर अब बस करो कह रही हैं।
Related Posts