ताजा खबरें >- :
मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की लांचिंग के दौरान मुख्यमंत्री धामी और महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य भावुक हुए

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की लांचिंग के दौरान मुख्यमंत्री धामी और महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य भावुक हुए

कोरोनाकाल में बेसहारा हुए बच्चों के संरक्षण के लिए मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की लांचिंग के दौरान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य भावुक हो गए। मुख्यमंत्री धामी ने अपने संबोधन में कहा कि वह इन बच्चों का मामा की तरह ध्यान रखेंगे। उनसे पहले मंत्री आर्य ने कहा कि वह बेसहारा बच्चों की बुआ की तरह हैं। जिस तरह बहन अपने भाई के बच्चों का संरक्षण करती है, उसी तरह वह भी इनका संरक्षण करेंगी।मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि भाव में ही भगवान होते हैं। हमारा इन बच्चों के प्रति स्नेह, प्रेम और उत्तरदायित्व का भाव है। हम सभी इनके लिए जो कुछ भी कर सकते हैं, पूरे मनोयोग से करें। इनकी सहायता से पुण्य प्राप्त होगा। वात्सल्य, माता-पिता में अपने बच्चों के लिए होने वाला नैसर्गिक प्रेम होता है। उन्होंने कहा कि कोरोनाकाल में जिन बच्चों की आंखों में आंसू आए हैं, उनके चेहरों पर मुस्कान लाने का हम प्रयास कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह पहली योजना है, जिसमें हम चाहते हैं कि इसमें आच्छादित बच्चों की संख्या इतनी ही बनी रहे। अन्य किसी बच्चे को इसकी जरूरत न पड़े। फिर भी हम इनकी पूरी देखभाल करेंगे। ये बच्चे अपने-अपने क्षेत्र में लीडर बनकर प्रदेश की पहचान बनेंगे। इस कड़ी में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूर्व राष्ट्रपति डा एपीजे अब्दुल कलाम का उदाहरण दिया। उन्होंने सरकार की विभिन्न योजनाओं का उल्लेख भी किया।कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि कोरोना ने हमसे बहुत कुछ छीना है। तमाम व्यक्तियों ने अपनों को खोया है। हमें इस दर्द से संघर्ष कर आगे बढ़ना है। उन्होंने मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। बताया कि योजना के दायरे में एक मार्च 2020 से 31 मार्च 2022 तक की अवधि में कोरोना या अन्य बीमारियों से माता-पिता अथवा संरक्षक को खोने वाले बच्चों को शामिल किया जाएगा। इसमें आर्थिक सहायता के अलावा शिक्षा एवं स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने की कार्रवाई की जा रही है। बच्चों की सुरक्षा संरक्षण के लिए सभी डीएम को प्रभावित बच्चों की देखभाल, पुनर्वास, चल-अचल संपत्ति, उत्तराधिकारी एवं विधिक अधिकारों के मद्देनजर संरक्षक अधिकारी नामित किया गया है।

महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग की ओर से संचालित मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना में अभी तक सभी श्रेणियों में 1143 बालिकाएं और 1202 बालक चिह्नित किए गए हैं। इनमें कोविड व अन्य बीमारियों के कारण माता-पिता खो चुके बच्चों की संख्या 151 है, जबकि शेष माता-पिता व संरक्षक में से किसी की मृत्यु से प्रभावित बच्चे शामिल हैं। योजना के संचालन के लिए अब एमआइएस पोर्टल बनाया जा रहा है, जिसमें सभी बच्चों का विवरण जिलेवार भरा जाएगा। बताया गया कि जल्द ही सभी चिह्नित बच्चों को डीबीटी के माध्यम से उनके बैंक खातों में प्रतिमाह सहायता राशि भेजी जाएगी।

Related Posts