ताजा खबरें >- :
चारधाम यात्रा को लेकरआस्था पथ पर दिल कमजोर पड़ रहा है और श्रद्धालु लगातार हृदयाघात की चपेट में

चारधाम यात्रा को लेकरआस्था पथ पर दिल कमजोर पड़ रहा है और श्रद्धालु लगातार हृदयाघात की चपेट में

कोरोना महामारी के चलते दो साल बाधित रही चारधाम यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं में भारी उत्साह है और प्रतिदिन लगभग 50 हजार श्रद्धालु चारों धाम में दर्शनों को पहुंच रहे हैं।  चिंता की वजह यह है कि इस बार आस्था पथ पर दिल कमजोर पड़ रहा है और श्रद्धालु लगातार हृदयाघात की चपेट में आ रहे हैं।

शुरुआती एक महीने की यात्रा में ही 124 श्रद्धालुओं की मौत हृदयाघात से हो चुकी है। इनमें पांच श्रद्धालुओं की मौत ऋषिकेश में हुई। जबकि, वर्ष 2019 में 48 श्रद्धालुओं ने इस अवधि में दम तोड़ा था। हालांकि, सरकार ने अब संबंधित जिलों के सीएमओ से श्रद्धालुओं के मौत के कारणों की विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। विदित हो कि इस बार तीन मई को यमुनोत्री व गंगोत्री धाम के कपाट खुलने के साथ चारधाम यात्रा शुरू हुई थी। जबकि, केदारनाथ के कपाट छह मई और बदरीनाथ के आठ मई को खोले गए।

हृदयाघात वाले श्रद्धालु

वर्ष 2019, वर्ष 2022

  • यमुनोत्री, 07, 31
  • गंगोत्री, 05, 06
  • केदारनाथ, 29, 58
  • बदरीनाथ, 07, 24
Related Posts