ताजा खबरें >- :
कलियासौड़ के समीप एक कार अनियंत्रित होकर अलकनंदा नदी में समा गई

कलियासौड़ के समीप एक कार अनियंत्रित होकर अलकनंदा नदी में समा गई

रविवार शाम बदरीनाथ हाईवे पर कलियासौड़ के समीप एक कार अनियंत्रित होकर अलकनंदा नदी में समा गई। हादसे में कार स्वामी और उनके एक रिश्तेदार की पानी में डूबने से मौत हो गई, जबकि कार स्वामी की बेटी की ऊपर ही छिटकने से जान बच गई। पुलिस और एसडीआरएफ ने मृतकों के शव कार के अंदर से निकाल लिए हैं। मृतकों के परिजनों ने बताया कि वह लोग धारी देवी मंदिर जाने की बात कहकर गए थे।

जानकारी के अनुसार, रविवार दोपहर बाद श्रीकोट गंगानाली निवासी गढ़वाल विवि के कर्मचारी देवेंद्र सिंह (52) पुत्र रविराम अपनी बेटी दिव्यांशी (16) और बड़ी बेटी के देवर प्रवीण कुमार (28) पुत्र हर्षमणि निवासी त्यागणी पौखाल (टिहरी) के साथ अपनी कार में धारी देवी दर्शन के लिए निकले थे, लेकिन वह धारी से आगे खांकरा की ओर चले गए। तभी वापसी में श्रीनगर से करीब 16 किलोमीटर दूर कलियासौड़ में उनकी कार अनियंत्रित होकर अलकनंदा नदी (श्रीनगर जल विद्युत परियोजना झील) में जा गिरी। खाई में लुढ़कते हुए दिव्यांशी ऊपर ही छिटक गई, जिसे बचा लिया गया, जबकि देवेंद्र और प्रवीण कार के अंदर ही रह गए। पुलिस और एसडीआरएफ ने मशीनों की मदद से कार को पानी से बाहर निकालते हुए कार के अंदर से दोनों मृतकों के शव निकाले हैं। चौकी प्रभारी श्रीकोट महेश रावत ने बताया कि दिव्यांशी का अस्पताल में उपचार चल रहा है। उसके माथे और हाथ में चोट है। उसने बताया कि कार पिता चला रहे थे।
दिव्यांशी को बचाने एक अज्ञात युवक देवदूत की तरह आया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार कार के गिरने के दौरान वहां से अन्य वाहन भी गुजर रहे थे। जैसे लोग अपने वाहनों से बाहर आए, तो उन्होंने दिव्यांशी को नदी किनारे गिरे देखा। इन्हीं वाहनों में शामिल एक कार में सवार युवक बिना किसी देरी के सीधी खाई में दौड़ पड़ा और दिव्यांशी को कंधे में अन्य लोगों की मदद से ऊपर ले आया।जिस स्थान पर वाहन गिरा है, वहां पर राजमार्ग की हालत बहुत खराब है। पहाड़ी की ओर पत्थर गिरने का खतरा भी बना रहता है, ऐसे भी हो सकता है कि वाहन चालक पहाड़ी की ओर देखने के चक्कर में वाहन से नियंत्रण खो बैठा हो।
Related Posts