ताजा खबरें >- :
बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि तय करने की प्रक्रिया शुरू; बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि वसंत पंचमी तय

बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि तय करने की प्रक्रिया शुरू; बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि वसंत पंचमी तय

बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि तय करने की प्रक्रिया शुरू हो गई। इसके तहत डिमरी पुजारी गाडू घड़ा यात्रा में शामिल होने के लिए जोशीमठ के नृसिंह मंदिर से पांडुकेश्वर पहुंचे हैं। बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि वसंत पंचमी को राजदरबार नरेंद्रनगर में तय होती है।चमोली जिले में समुद्रतल से 10276 फीट की ऊंचाई पर स्थित बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। परंपरानुसार रविवार को डिमरी पुजारी गाड़ू घड़ा लेने के लिए जोशीमठ से पांडुकेश्वर योगध्यान मंदिर पहुंचे। बदरीनाथ डिमरी केंद्रीय पंचायत के कार्यवाहक अध्यक्ष विनोद डिमरी ने बताया कि सोमवार को गाडू घड़ा पांडुकेश्वर के योग ध्यान मंदिर में पूजा करने के बाद डिम्मर गांव के लक्ष्मीनारायण मंदिर में विराजमान होगा, जहां पूजा कर रात्रि विश्राम किया जाएगा। लक्ष्मी नारायण मंदिर में तीन दिनों तक ठहरने के बाद चार फरवरी को डिम्मर गांव से प्रस्थान कर ऋषिकेश होते हुए नरेंद्र नगर स्थित टिहरी नरेश के राज दरबार में पहुचेंगे।

उत्तराखंड को यूं ही देवों की भूमि नहीं कहा जाता है। पवित्र चार धाम बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री यहीं स्थित हैं। चार धाम की यात्रा पर हर साल कई श्रद्धालु उत्तराखंड पहुंचते हैं और भगवान बदरी विशाल का आशीर्वाद लेने के साथ ही बाबा केदार, यमुनोत्री और गंगोत्री धाम के दर्शन को भी पहुंचते हैं। यात्रा संपन्न होने के बाद भगवान अपने शीतकाली स्थलों पर प्रवास करते हैं। यहीं श्रद्धालु उनके दर्शन करते हैं। इसके साथ ही उत्तराखंड में कई अन्य प्रसिद्ध धार्मिक स्थल भी हैं।चार धाम ऊंचाई पर स्थित हैं। यहां सर्दियों में बर्फबारी से चारों धाम बर्फ की सफेद चादर ओढ़ लेते हैं। बीते दिनों भी बदरीनाथ और केदारनाथ समेत चार धाम में खूब बर्फबारी हुई। इस दौरान धामों की छटा देखते ही बनती है।उत्तराखंड में पंच केदार भी स्थित हैं, जिनकी अपनी अलग विशेषताएं। पांच मंदिरों के समूह को पंच केदार कहा जाता है। इनमें केदारनाथ, तुंगनाथ, रुद्रनाथ, मध्यमहेश्वर और कल्पेश्वर महादेव मंदिर शामिल है।

Related Posts