ताजा खबरें >- :
केदारनाथ में भक्ति के नाम पर यह कैसी मनमानी है;   कौन सुने बेजुबानों की जुबानी

केदारनाथ में भक्ति के नाम पर यह कैसी मनमानी है; कौन सुने बेजुबानों की जुबानी

केदारनाथ में भक्ति के नाम पर यह कैसी मनमानी है , जिसका खमजियाज बेजुबान पशुओं को भुगतना पड़ रहा है ।
जहां एक तरफ चार धाम यात्रा में श्रद्धालुओं की मौत चिंता का विषय बनी हुई है वही केदारनाथ और यमनोत्री मार्ग पर अहम भूमिका निभाने वाले घोड़ों और खच्चरों की जान पर बन आई है ।
केदारनाथ में बढ़ती यात्रियों के रिकॉर्ड तोड भीड़ का नतीजा यह के घोड़ों और खच्चरों को भुगतना पड़ रहा है ।

पिछले 16 दिनों में 60 से अधिक घोड़ों और खच्चरों की मौत हो चुकी है , मौत की वजह है इन बेजुबान जानवरो के लिए उचित व्यवस्था का ना होना और सही ढंग से आराम और भोजन का ना मिल पाना, ज्यादा पैसे कमाने के चक्कर में इनके मालिक इन बेजुबान जानवरो से ज्यादा काम करवा रहे है। हालाकि केदारनाथ की यात्रा नवंबर माह तक चालू है ,लेकिन अभी से यात्रियों की अधिक संख्या यह के बेजुबान जानवरो के लिए मुसीबात साबित हो रही है ।
ऐसे में यह एक अहम मुदा है की , क्या लोग वाकई केदारनाथ में भक्ति और शांति की तलाश में आते है या फिर उनके लिए केदारनाथ के दर्शन करना महज पिकनिक पर जाने जैसा है , क्योंकि कहीं न कहीं इस बढ़ती भीड़ का सीधा प्रभाव यह के जन जीवन पर पड़ रहा है ।

Related Posts