ताजा खबरें >- :
उत्तराखंड -सवालों से कन्नी काटते मंत्री

उत्तराखंड के मंत्रियों की बिना होमवर्क किये ही विधानसभा सत्र पहुंचने की आदत किसी से छुपी नहीं है .इस बार भी मंत्री प्रशनों का सही जवाब नहीं दे पाये .विधासनसभा मानसून सत्र के दौरान मंगलवार को प्रश्नकाल में विपक्ष के साथ ही सत्ता पक्ष के विधायकों ने भी कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज की जमकर घेराबंदी की। हालांकि मंत्री ने भी ज्यादातर अनुपूरक सवालों के जवाब में ‘आपको बाद में जवाब उपलब्ध करा दिया जाएगा’ की चिर परिचित लाइन पकड़ कर खुद को सुरक्षित निकालने में कामयाबी हासिल की। धनौल्टी विधायक प्रीतम सिंह पंवार ने सिंचाई मंत्री से टिहरी बांध के किनारे पर स्थित ग्रामीणों के बांध में डूबने से हुए जान माल के नुकसान का विवरण मांगा था।

इसके जवाब में सिंचाई मंत्री ने बताया कि 2017-18 से इस कारण 14 लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि 2011 में केंद्र सरकार ने तय किया था कि बांध के किनारे खतरे वाले स्थानों पर तारबाढ़ जैसे सुरक्षा उपाय किए जाएंगे। इस पर प्रीतम पंवार ने दस साल से एक भी जगह सुरक्षा उपाय न होने पर सवाल उठाए। इस दौरान भाजपा विधायक मुन्ना चौहान ने भी मंत्री से सवाल पूछा कि सुरक्षा उपाय तो बाद में होंगे क्या सरकार ने खतरे वाले स्थानों का चिन्हीकरण कर लिया है।

इसी तरह भाजपा विधायक खजानदास ने वन भूमि के कारण अटकी सड़कों की जानकारी लोक निर्माण विभाग के मंत्री सतपाल महाराज से मांगी। इस पर मंत्री के जवाब से अंसुष्ट खजानदास ने कहा कि आखिर क्या कारण है कि भूगोल, समाज, संस्कृति में उत्तराखंड के समान होने के बावजूद हिमाचल में इस तरह की दिक्कतें नहीं आती। इस प्रश्न पर भी मुन्ना चौहान ने मंत्री से क्षतिपूर्ति वृक्षारोपण न होने के कारण अटकी सड़कों का भी विवरण देने को कहा। खास बात यह रही कि मंत्री सतपाल महाराज ने ज्यादातर अनुपूरक सवालों के जवाब में सदस्यों को बाद में सूचित किए जाने का बयान देकर खुद को सुरक्षित निकाला।