ताजा खबरें >- :
मौसी ने किया नवजात शिशु का अपहरण, पचास हजार में बेचने का था प्लान, जानिए फिर क्या हुआ

मौसी ने किया नवजात शिशु का अपहरण, पचास हजार में बेचने का था प्लान, जानिए फिर क्या हुआ

रुद्रप्रयाग। नवजात शिशु का अपहरण करने वाले आठ आरोपियों को पुलिस ने पकड़कर न्यायालय में पेश किया। मामले में नवजात शिशु की मौसी की संलिप्तता सामने आई है, जिसने बच्चे को बेचने के ऐवज में पचास हजार का सौदा किया। मौके से महिला के पास से पैंतालिस हजार बरामद किये गये।
दरअसल, बृहस्पतिवार को बंदरतोली में निवास कर रहे नेपाली मूल के नरेश बहादुर पुत्र जीत बहादुर ने अपने नौ दिन के नवजात शिशु की अपहरण की सूचना पुलिस को दी। पुलिस अधीक्षक अजय सिंह ने बताया कि पीड़ित परिवार से पूछताछ करने और घटनाक्रम में संलिप्त लोगों के संबंध में तहरीर के आधार पर कोतवाली रुद्रप्रयाग में 20/19 धारा 363 भादवि (अपहरण) का अभियोग पंजीकृत कर विवेचना करते हुए अपहरणकर्ताओं की धर पकड़ के लिए टीम का गठन किया गया। गठित टीम ने सर्विलांस के माध्यम से अपहरणकर्ताओं को चैकी भद्रकाली ऋषिकेश के पास से गिरफ्तार किया गया।
इनके कब्जे से घटना में प्रयुक्त किये जाने वाले वाहन जिप्सी को भी बरामद किया गया। घटना में नवजात शिशु की मौसी बबीता की संलिप्तता सामने आई है, जिसके द्वारा बच्चे को पचास हजार में बेचे जाने का सौदा किया गया था। उसके पास से 45 हजार बरामद किये गये। बताया कि विवेचना अभियोग में धारा 370 भादंवि (व्यक्ति की खरीद फरोख्त) 120बी (आपराधिक षड़यंत्र) की बढ़ोत्तरी की गयी है।
मामले मेंशिल्पा पत्नी जगदीश चन्द्र उर्फ विक्की, जगदीश चन्द्र उर्फ विक्की पुत्र रिखी राम थाना बालोगंज तहसील व जिला शिमला हिमाचल प्रदेश, बीना देवी पत्नी अहकाम सैयद, मनमीत सिंह राणा पुत्र अहकाम सैयद निवासी 62 फुटा रोड़ मंसूर काॅलोनी सब्जी मण्डी सहारनपुर, ज्ञान चन्द उर्फ सोनू पुत्र बालकराम निवासी ग्राम व पो नबाही, हंसराज कुमार उर्फ मीटू पुत्र मानचंद निवासी ग्राम व पो0 मही जिला हमीरपुर, कर्ण सिंह पुत्र अर्जुन सिंह ग्राम मतेह, पो चमियाडी, जिला ऊना हिमाचल प्रदेश, बबीता देवी पत्नी प्रेम कुमार निवासी सूद का मकान पो ढली जिला शिमला हिमाचल प्रदेश को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है।
आरोपियों को कल न्यायालय में पेश किया जायेगा। पुलिस अधीक्षक ने टीम में शामिल उप निरीक्षक जहांगीर अली, उपनिरीक्षक ज्योति पंवार, आरक्षी कुलदीप सिंह, आरक्षी विनोद कुमार एवं आरक्षी पूनम की सराहना करते हुए कहा कि टीम के सदस्यों ने कम समय में बच्चे की खोजबीन कर उसके परिजनों के सुपूर्द किया है।
Related Posts