ताजा खबरें >- :
स्कूली बच्चे डेंगू से निपटने में साथ देंगे , बनानी होगी डेंगू गृह कार्य रिपोर्ट

स्कूली बच्चे डेंगू से निपटने में साथ देंगे , बनानी होगी डेंगू गृह कार्य रिपोर्ट

स्कूली बच्चे भी डेंगू से निपटने की स्वास्थ्य विभाग की मुहिम में अब साथ देंगे। स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए डेंगू गृह कार्य रिपोर्ट पर आधारित कार्ड तैयार किया है। इसमें बच्चों की ओर से ऐडीज मच्छरों के पनपने के स्थान का सर्वे करते हुए इसकी सूचना इस कार्ड पर अंकित की जाएगी। यह गतिविधि बच्चों में रचनात्मक कौशल के साथ ही डेंगू से बचाव के प्रति जागरूकता लाने में भी मदद करेगा।
प्रदेश में डेंगू की रोकथाम और नियंत्रण की कारगर रणनीति के लिए विभाग तमाम लोगों को साथ जोड़ रहा है। अधिकारियों का मानना है कि इस मुहिम में जागरूकता एक अहम घटक है और इसमें स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त समाज के प्रत्येक व्यक्ति की भागीदारी आवश्यक है।
ऐसे में स्कूली बच्चों को भी इस मुहिम का हिस्सा बनाया है। इसके लिए कक्षा छह से आठ तक के छात्र.छात्राओं के लिए डेंगू गृह कार्य रिपोर्ट पर आधारित कार्ड तैयार किया गया है।
डेंगू की बीमारी का सर्वाधिक प्रकोप जुलाई से अक्टूबर के बीच रहता है। ऐसे में इन चार माह का विवरण इस कार्ड पर भरा जाएगा। बच्चे घर.घर जाकर डेंगू की स्थिति का जायजा लेंगे और सर्वेक्षण रिपोर्ट तैयार करेंगे। इसी के साथ वह लोगों को डेंगू से बचाव की पूरी जानकारी देंगे।
जिला वीबीडी अधिकारी सुभाष जोशी ने बताया कि इस मुहिम के तहत बच्चे पानी की टंकी, कूलर की स्थितिए छत पर खाली डब्बे, टायर व कबाड़ की स्थिति का जायजा लेंगे। इस कार्ड पर प्रत्येक घर के मालिक का नाम व फोन नंबर भी नोट करना होगा।
उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग की मदद से करीब 30 हजार कार्ड स्कूलों में बांटे जाएंगे। जून.जुलाई में आशाओं की मदद से सोर्स डिटेक्शन सर्वे भी किया जाएगा। यह दोनों कार्यक्रम एक दूसरे से लिंक होंगे। बच्चों को लगता है कि कहीं डेंगू का मच्छर पनप रहा हैए या स्थितियां ऐसी हैं तो इसकी जानकारी वह आशा या विभाग को देंगे। जिससे समय रहते स्थिति से निपटा जा सकेगा।
बारिश का मौसम करीब आ रहा है वैसे डेंगू का खतरा भी बढ़ रहा है। क्योंकि डेंगू का लार्वा नमी पाते ही सक्रिय होने लगता है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने भी इसे लेकर कमर कस ली है। राष्ट्रीय डेंगू दिवस के अवसर पर विभाग ने एक बार फिर अपनी तैयारियां पुख्ता की। ज्यादा फोकस संबंधित विभागों के बीच आपसी सामंजस्य पर रहा।
राष्ट्रीय डेंगू दिवस पर मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय में संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें स्वास्थ्य विभागए नगर निगम, शिक्षा विभाग के अधिकारी.कर्मचारी शामिल हुए। जिला वीबीडी अधिकारी सुभाष जोशी ने कहा कि डेंगू की रोकथाम के लिए जागरूकता बहुत जरूरी है। इस ओर सभी विभाग बेहतर सामंजस्य बनाकर कार्य करें।
उन्होंने कहा कि गत वर्षो में डेंगू का प्रकोप कम हुआ है। कारण यह कि फॉगिंग, सोर्स डिटेक्शन सर्वेए जागरूकता अभियान आदि काफी पहले शुरू कर दिए गए। इस बार भी डेंगू के मच्छर को ठीक ऐसे ही पस्त करना है। एपीडरमोलॉजिस्ट डॉ. पीयूष ने कहा कि एडीज मच्छर दिन में काटता है।
प्रभावित इलाकों में फॉगिंग
नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरके सिंह ने कहा कि डेंगू प्रभावित इलाकों में फॉगिंग कराई जा रही है। इस दौरान एसीएमओ डॉ. नरेंद्र त्यागी, डॉ. केके सिंह, डॉ. संजीव दत्त, नगर शिक्षा अधिकारी आइएम बलोदी, जेकेएस बंपाल समेत आशा कार्यकर्ता और स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी मौजूद रहे।

Related Posts