ताजा खबरें > :
उत्तराखंड-मंत्रिमंड्ल विस्तार पर सियासी हलको में चर्चा

उत्तराखंड-मंत्रिमंड्ल विस्तार पर सियासी हलको में चर्चा

उत्तराखंड सरकार में कैबिनेट विस्तार की एक बार फिर से चर्चा हो रही है . त्रिवेंद्र की अगुवाई वाली सरकार को साढे तीन साल की अवधि पूरी हो गई है लेकिन दो मंत्री पद अभी भी खाली है . मार्च 2019 में कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत के निधन के बाद एक और सीट खाली हो गई है. इस तरह तीन पद खाली है . अब विधानसभा चुनाव में महज डेढ़ साल का वक्त ही बचा है एसे में सवाल उठ रहा है की क्या इन्हे भरा जाना जरुरी है पर सियासी हलको में चर्चा है की उत्तराखंड् में जल्द ही मंत्रिमंड्ल का विस्तार होगा .

हालांकि इसी साल फरवरी में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात कर मंत्रिमंडल विस्तार की हरी झडी ले आए थे। तब स्वयं मुख्यमंत्री ने कहा था कि मार्च पहले हफ्ते तक उनकी टीम में नए सदस्यों को शामिल किया जा सकता है। लेकिन इसके बाद देश में कोविड-19 के तेजी से फैलने के कारण लॉकडाउन लगाना पडा। इससे स्वत: ही मंत्रिमंडल विस्तार पर ब्रेक लग गया।
लेकिन कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की राजभवन में राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से हुई मुलाकात ने इस खबर को एक बार फिर से हवा दे दी है . सियासी गलियारो में चर्चा है की शायद इस बार खबर पक्की हो . हालाकि राजभवन ने इसे महज शिष्टाचार भेंट ही बताया है .पर सभी दावेदार अभी भी टकटकी लगाये है और अपने अपंने स्तर से ळॉबिंग भी कर रहे है . बहरहाल जिस तरिके से कोरोना का संकट बना हुआ है अभी नही लगता की इस पर कोई निर्णय होगा . हां स्थिति नियंत्रित होने के बाद मंत्रिमंडल के विस्तार की क्षणिक संभावना ही दिखाई देती है .

इस बीच पार्टी के नए प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत भी कई दफा इसके संकेत देते रहे हैं। लेकिन बंशीधर भगत का संकेत भी कही न कही मंत्री पद के तमाम दावेदार विधायको का आंतरिक दबाव ही कहा जा सकता है .

Related Posts