ताजा खबरें > :

शिक्षा निदेशालय ने कर दिए बिना जिम्मेदारी के परमोशन

निदेशालय प्रारंभिक शिक्षा उत्तराखंड ने पिछले दिनों वरिष्ठ सहायक से प्रधान सहायक पदों पर पदोन्नति तो कर दी। लेकिन उनका स्थान नहीं बताया कि अब उनकी कौन से जिम्मेदारी है। यानी अभी परमोशन पाए कार्मिक उसी कुर्सी पर बैठे हैं जिस पर वह परमोशन से पहले थे। सीधे शब्दों में कहें तो कर्मचारियेां की पदोनति तो हुई लेकिन करीब एक माह बीत जाने पर भी उन्हें प्लेसमेंट नहीं मिला।

विभाग की इस हरकत से कर्मचारी हैरान भी हैं और गुस्से में भी। कर्मचारियों का कहना है कि यह सिर्फ हवा में काम हो रखा है। इससे कनिष्कों की पदोन्नति भी प्रभावित हो रही है। आज गढ़वाल मण्डल में सभी जनपदीय कार्यकरिणियौ ने अपने-अपने मुख्य शिक्षा अधिकारियौ के जरिए महानिदेशक विद्यालयी शिक्षा उत्तराखण्ड और निदेशक प्रारम्भिक शिक्षा उत्तराखण्ड को ज्ञापन प्रेषित किया गया।

इस उम्मीद के साथ ही जल्द ही इस पर फैसला होगा। और एक तरह से इसे कर्मचारियों का अल्टीमेटम भी कहा जाएगा क्यों कि कल 29 एवम 30 जुलाई 2020 को गढवाल मण्डल में एजुकेशनल मिनिस्ट्रीयल ऑफीसर्स एसोसिएशन ने कार्यबहिष्कार का भी एलान कर दिया है। और 31 जुलाई उग्र आंदोलन की रणनीति बनाने तक की योजना है। ऐसे में निदेशालय के अधिकारियों को इस मसले पर शीघ्र ध्यान देना होगा। अन्यथा उन्हें स्वयं की लापरवाही के लिए खांमाखां अपने ही कर्मचारियों के कोपभाजन को शिकार होना पड़ेगा। ज्ञापन देने वालो में मण्डलीय सचिव सीताराम पोखरियाल,जनपदीय सचिव पौड़ी श्री दीपक बहुगुणा, श्री विजयपाल सिंह रावत, कुलदीप रावत, दिनेश गैरोला, नवल किशोर निराला, नरेंद्र सिंह रावत आदि उपस्थित थे।

Advertisements
Related Posts